On-Page SEO | Off-Page SEO | SEO-All You Need To Know

On-Page SEO | Off-Page SEO | on-page SEO and off-page SEO | What is SEO | how does SEO works? | Vote of Confidence | SEO in HINDI | SEO TYPES

अगर आपने अभी-अभी ब्लॉगिंग शुरू की है तो आपके लिए SEO के बारे मे जानना बहुत जरूरी है। अगर आप SEO के बारे मे ढूंढ रहे है की ये होता क्या है। और इसको करते कैसे है तो आप बिलकुल चिंता मत कीजिए, आप एक दम सही जगह पर आए है। यहाँ हम इस पोस्ट के मदद से आपको SEO के बारे मे सभी जरूरी बाते बताएँगे। तो चलिए चलते है और जानते है SEO के बारे मे। 

SEO क्या है?

“SEO का तात्पर्य Search Engine Optimization है। जो ऑर्गेनिक सर्च इंजन परिणामों के माध्यम से आपकी वेबसाइट पर पाठको की मात्रा और गुणवत्ता बढ़ाने का अभ्यास है। “

मुख्य तोर पर SEO 2 प्रकार के है। 

  • ON-PAGE SEO
  • 0FF-PAGE SEO 

SEO काम कैसे करता है।

आप एक सर्च इंजन के बारे में सोच सकते हैं एक वेबसाइट के रूप में आप एक बॉक्स में एक प्रश्न टाइप करते हैं (या बोलते हैं) और Google, याहू !, बिंग, या जो भी सर्च इंजन आप उपयोग कर रहे हैं, वह वेबपृष्ठों के लिंक की लंबी सूची के साथ है संभावित रूप से आपके प्रश्न का उत्तर दे सकता है।

यह सच है। लेकिन क्या आपने कभी विचार करना बंद कर दिया है कि लिंक की उन जादुई सूचियों के पीछे क्या है?

यहां बताया गया है कि यह कैसे काम करता है: Google (या आपके द्वारा उपयोग किए जा रहे किसी भी सर्च इंजन) में एक क्रॉलर है जो बाहर जाता है और उन सभी सामग्रियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करता है जो वे इंटरनेट पर पा सकते हैं। क्रॉलर इंडेक्स बनाने के लिए उन सभी 1s और 0s को सर्च इंजन में वापस लाते हैं। उस सूची को तब एक एल्गोरिथ्म के माध्यम से मिलाया जाता है जो आपकी सवाल के साथ उस सभी डेटा से मेल खाने की कोशिश करता है।

तो चलिये SEO के दोनों प्रकार को विस्तारपूर्ण समझते है।

ON-PAGE SEO :-

ON-PAGE SEO एक तकनीक है इसमे आप आपके ब्लॉग, वैबसाइट के हर पेज को ऑप्टिमाइज़ करते है  जिससे की आपका वेब पेज सर्च इंजिन पर ऊपर रैंक करे सके। और आप अपनी वैबसाइट पर ज्यादा ट्रेफिक ला सके। 

कुछ ON-PAGE SEO के उधारण :-

  • Title tags
  • Meta description tags
  • Headline tags (H1, H2, etc.)
  • Page content
  • Image captions
  • Image alt tags
  • Breadcrumbs
  • URL
Title tags :-

Title tags html के एलिमेंट्स होते है। जो आपकी वेब पेज के मुख्य विषय को बताते है। ये गूगल के सर्च परिणामो मे आते है जिस पर लोग क्लिक कर के आपकी वैबसाइट पर आ सकते है। ये आपके वेब पेज को दर्शाता है कि वो किस बारे मे है। ये SEO का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। ये बहुत जरूरी है कि आपका टाइटल टग एक दम सही हो और वो आपके वेब पेज के कंटैंट को सही से दर्शाता हो या प्रतिनिध्त्व करता हो। ये गूगल या किसी अन्य सर्च इंजिन की मदद करता है आपके ब्लॉग को समझने मे और उससे सही उपयोगकर्ताओ तक पाहुचने मे।

आपके पेज पर ऑप्टिमाइज़ेशन बहुत ही जरूरी होता है। जिससे की सर्च इंजिन आपका कंटैंट समझता है और आपके पेज को दूसरों के वेब पेज से ऊपर रैंक करवाने मे मदद करता है। 

आपका सबसे ज्यादा नियंत्रण ON-PAGE SEO पर रहता है क्योकि वह आप खुद करते है जबकि 0FF-PAGE SEO दूसरी वैबसाइट पर निर्भर रहता है। 

On-Page SEO | Off-Page SEO | SEO-All You Need To Know

जैसा की आप सब देख सकते है ऊपर दिये गए उदाहरण मे देख सकते है की इसमे सारे ON-PAGE SEO ऑप्टिमाइज़ किए जा चुके है। जैसे टाइटल टग, हैड-लाइन टग, मेटा देस्कृप्टीओन टग। यह चीज सर्च इंजिन को मदद करती है की वो उपयोगकर्ता को बिलकुल सही जानकारी दे सके। अगर आपकी वैबसाइट पर ज्यादा क्लिक आते है तो इसका मतलब है की आपका ब्लॉग सर्च किए जाने वाले सवाल से ज्यादा मिलता-झूलता है। जिससे की सर्च इंजिन आपकी वैबसाइट को ऊपर रैंक कर सकता है। 

ON-PAGE SEO एक कठिन कार्य है लेकिन यह आधी ही कहानी है। 

तो चलिये देखते है 0FF-PAGE SEO क्या है।  

0FF-PAGE SEO : वोट ऑफ कॉन्फ़िडेंस क्या है?

अगर किसी वैबसाइट पर आपका पेज लिंक है तो सर्च इंजिन उसे “वोट ऑफ कॉन्फ़िडेंस” मे गिनता है। 

उधाहरण के लिए अगर ऑक्सफोर्ड यूनिवरसिटि की वैबसाइट पर आपके ब्लॉग पोस्ट का लिंक है तो यह सर्च इंजिन को आपके पोस्ट की महत्त्वता को दर्शाता है। मुख्यता अगर आपकी पोस्ट किसी शिक्षा या सरकार की वैबसाइट पर हो। अगर कोई बिज़नस डाइरैक्टरि जैसे की Yest आपकी वैबसाइट का लिंक देती है तो भी आपकी वैबसाइट को महत्वता दी जाती है। अगर कोई आपकी वैबसाइट का नाम सोश्ल मीडिया पर भी लेता है तो सर्च इंजिन उसे महत्वता देता है।  

इसलिए 0FF-PAGE SEO की महत्वता को सम्झना जरूरी है। बजाए इसके की आप कुछ ON-PAGE SEO के जरिए सर्च इंजिन को बताए की आपका पेज कितना जरूरी है, 0FF-PAGE SEO मे दूसरे लोग सर्च इंजिन को बताते है की आपका पेज सर्च इंजिन पर ऊपर रैंक करना कितना जरूरी है। 

On-Page SEO | Off-Page SEO | SEO-All You Need To Know

ऊपर 0FF-PAGE SEO का उदाहरण दिया हुआ है। एक दूसरी वैबसाइट marketo.com ने  mdgadvertising.com और  imninc.com का लिंक दिया है। जब एक उपयोगकर्ता इस ल्लिंक पर क्लिक करता है। और दूसरी वैबसाइट पर जाता है तो सर्च इंजिन को लगता है की ये लिंक और इससे जुड़ा हुआ कंटैंट महत्वपूर्ण है। यह आपके SEO को और अच्छा बनाता है और पूरी वैबसाइट की प्रदर्शन अच्छी करता है। ऑफ पेज SEO करने के लिए हमारे 100+ Free Directory Submission Lists 2020 पर जाए।

0FF-PAGE SEO करने के दूसरे तरीके

जैसे की आप जानते है की 0FF-PAGE SEO मे जब कोई दूसरा आपकी वैबसाइट को खुद की वैबसाइट पर लिंक करता है, शेयर करता है या आपकी ब्रांक को दूसरे पेज पर दर्शाता है तब जा कर 0FF-PAGE SEO पूर्ण होता है। लेकिन इसके अलावा भी आप कई तरीके से 0FF-PAGE SEO कर सकते है। इसमे आपक खुद का कंटैंट  Medium, Quora, LinkedIn और Reddit पर डालना शामिल है। आप दूसरे की वैबसाइट पर अपना कंटैंट पब्लिश भी कर सकते है और आपकी वैबसाइट का लिंक वहाँ छोड़ सकते है। 

निष्कर्ष :-

जैसा की अब आप 0N-PAGE SEO और 0FF-PAGE SEO  के बीच का अंतर को जान चुके है तो अब आप इस जानकारी का इस्तेमाल करके अपना SEO ठीक कर सकते है। आप अपनी वैबसाइट को देखे की आपको कैसे 0N-PAGE SEO करना है, कहाँ आपको अपनी वैबसाइट का लिंक डालना है । 

सीखते रहिए :-

आपको On-Page SEO | Off-Page SEO | SEO-All You Need To Know यह जानकारी कैसी लागि कमेंट बॉक्स मे लिखकर अवश्य बताए। यदि कोई जानकारी रह गयी हो या आपका कोई प्रश्न हो तो हमे कमेंट बॉक्स मे सूचित करे। हम आपको जल्द से जल्द जवाब देने की कोशिश करेंगे। अगर आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद आती है और आप ऐसे ही अपना ज्ञान बड़ाना चाहते हो तो आप हमारे न्यूज़लेटर पर सब्सक्राइब करे। धन्यवाद !