On-Page SEO Techniques | The Complete Guide in Hindi

अगर आपको आपकी वैबसाइट को सर्च इंजिन के टॉप रिजल्ट्स मे लाना है तो आपको ON-Page SEO Techniques को जानना चाहिए। आपके लिए यह समझना बहुत जरूरी होगा की किसी पेज को टॉप पर रैंक कराने के लिए वो क्या चीजें है जो सर्च इंजिन देखता है। जैसे:-

  • ON-PAGE SEO और OFF-PAGE SEO
  • बॅकलिंक्स
  • पेज स्पीड
  • मोबाइल फ्रेंड्लिनेस
  • डोमैन की उम्र, URL और अथॉरिटी
  • ऑप्टिमाइज़ कंटैंट
  • पाठक का अनुभव
  • सोश्ल सिग्नल

हम यहा आपको इन सबके बारे मे जानकारी नही देंगी क्योकि अगर हम ऐसा करते है तो यह ब्लॉग पोस्ट बहुत बड़ी हो जाएगी। तो ये सब हम आपको विस्तार से अपनी आने वाली पोस्ट मे बताएँगे। अभी हम आपको SEO से जुड़ी बात बताएँगे। ON-PAGE SEO और OFF-PAGE SEO क्या है, इनमे क्या क्या मुख्य अंतर होता है इसके बारे मे हम पहले बात कर चुके है। आप हमारे पिछले लेख पर जा कर पढ़ सकते है। यहाँ देखे।

हमने ये देखा है की लोग अपनी वैबसाइट को रैंक करवाने के लिए ज़्यादातर OFF-PAGE SEO पर काम करते है लेकिन असलियत तो यह है कि ये काम ही नही करता जब तक आपके बुनियादी आधारभूत चीजें सही नही है जैसे कि ON-PAGE SEO। 

पेशेवर SEO विशेषज्ञ यह जानते है कि सबसे ज्यादा महत्वता ON-Page SEO Techniques को देनी चाहिए। जैसे कि सर्च इंजिन कि पॉलिसी कुछ समय के अंतराल मे बदलते रहती है उसी हिसाब से आपका ON-PAGE SEO ओप्टिमाइजेशन के तरीके भी लगातार बदलते होने चाहिए। 

इस पोस्ट मे हम यह जानेंगे की ON-PAGE SEO क्या है, यह क्यो महत्वपूर्ण है और एक अच्छे ऑन पेज SEO के लिए क्या टिप्स है। 

ON-PAGE SEO क्या है? और यह जरूरी क्यो है? 

ON-PAGE SEO एक तरीका है आपका पेज को ऑप्टिमाइज़ करने का जिससे आपकी वैबसाइट की सर्च इंजिन रैंकिंग मे सुधार किए जा सके और आपकी वैबसाइट का ओरगनिक सर्च बढ़ाया जा सके। इसमे हाइ क्वालिटी, रेलेवेंट कंटैंट डालने के साथ साथ html tags और Images को ऑप्टिमाइज़ करना भी शामिल है। यह जानने के लिए आपको यहाँ क्लिक करना है।

ON-PAGE SEO के लिए टिप्स (ON-Page SEO Techniques)

E-A-T 

EAT का मतलब है, Expertise, Authoritativeness, और Trustworthiness। गूगल के वैबसाइट रेट किसी क्रिएटर, वेबपेज या वैबसाइट का आंकलन करने के लिए इसी को इस्तेमाल करते है। गूगल हमेशा हाइ क्वालिटी कंटैंट को ही बढ़ावा देते है। यह इसकी हमेशा पुष्टि करता है की जो साइट हाइ क्वालिटी कंटैंट दे रहे है उन्हे ऊपर रैंकिंग दी जाए। और जो कम हाइ क्वालिटी कंटैंट दी रही है उन्हे कम नीचे रैंकिंग दी जाए। EAT हमेशा गूगल सर्च रिजल्ट्स मे अहम हिस्सा निभाता है जिसका मतलब है की ON-PAGE SEO के लिए EAT एक महत्वपूर्ण विचार होना चाहिए।  

 Title Tag

Title Tag एक HTML tag है जो की हर वेब पेज के हैड सेक्शन मे होता है। जो  की यह संकेत देता है की उस विशेष पेज पर किस प्रकार की जानकारी उपलब्ध है। इसे गूगल सर्च रिजल्ट्स मे प्रमुखता से दिखाया जाता है। यह वही है जिस पर आप है गूगल सर्च रिजल्ट्स मे से क्लिक करते। Title Tag थोड़ी कम भूमिका निभाते है ओरगनिक रैंकिंग मे इसलिए इसे थोड़ा नजरंदाज कर दिया जाता है। लेकिन एक डुपिकेट या अच्छे से न लिखा हुआ Title Tag आपका SEO रिजल्ट्स को प्रभावित कर सकता है। इसलिए हमेशा Title Tag को वेब पेज के कंटैंट के अनुसार ऑप्टिमाइज़ करे। 

Meta Description

बहुत पहले से ही Meta Description SEO के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। Meta Description, meta tags इस चीज का विवरण देते है की वह वेब पेज किसके बारे मे है। meta tags सर्च इंजिन रिजल्ट्स पेज मे टाइटल के नीचे होते है। गूगल पर रैंकिंग के लिए meta tags महवपूर्ण नही है। लेकिन ये परोक्ष रूप से SEO अच्छा करने मे मदद करता है। जैसे की Click Through Rate (CTR) सुधारते है। यह जानने मे मदद करते है की सर्च रिज़ल्ट किसके बारे मे, यह जानने मे मदद करता है की आपकी वैबसाइट किस बारे मे है। 

Headlines 

 अगर आप आपकी वैबसाइट को सर्च मे अच्छे से प्रदर्शन करवाना चाहते है तो आपको बहुत ही आकर्षक Headlines लिखनी होंगी। एक title का एक ब्लॉग पोस्ट के साथ आना बहुत ही मामूली सी बात है लेकिन एक अच्छी Headlines के साथ आना क्लिक और impression मे अंतर बना सकता है। आपकी Headlines ऐसी होनी चाहिए की सर्च रिज़ल्ट पेज पर उपयोगकर्ता को आपकी वैबसाइट पर क्लिक करने के लिए आकर्षित करे। जिससे आपका impression क्लिक मे बदल जाए। और Click Through Rate (CTR) बढ़ जाए। 

Header Tags

Header Tags html elements होते है जो आपके ब्लॉग के heading और subheading को पैराग्राफ और शब्दो के बीच के अंतर को पहचान्ने मे मदद करता है। Header Tags भी सीधे आपकी वैबसाइट की रैंकिंग के लिए इतना जरूरी नही है लेकिन ये परोक्ष रूप से  आपके SEO को सुधारने मे बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

  • ये पाठक के लिए आपके कंटैंट को पढ़ने मे मजेदार बनाता है। 
  • यह keywords के
SEO Writing

SEO Writing का मतलब है लेख लिखना सर्च इंजिन और पाठक दोनों को ध्यान मे रखते हुए। SEO Writing के लिए एक अच्छी पनाली होनी चाहिए न की सिर्फ keywords को रिक्त स्थानो मे भर दिये जाए। सिर्फ आर्टिक्ल SEO के लिए लिखने से काम नही होगा। याद रखें की आप कंटैंट लोगो के पढ़ने के लिए लिख रहे है तो वह हाइ क्वालिटी और काम का होना चाहिए। 

Updated content

बहुत से नए क्रिएटर सिर्फ नया कंटैंट लिखने पर ही ध्यान देते है और वे भूल ये भूल जाता है की चीजें वक़्त के साथ बदलती रहती है। और वे अपना पुराना कंटैंट को अपडेट करना भूल जाते है। और यह एक बहुत बड़ी गलती है। कंटैंट को लगातार अपडेट करना आपके SEO को सुधारने मे बहुत मदद करता है। 

Image optimization

 आपके ब्लॉग को मनोरंजक बनाने मे इमेज लगाना एक बहुत ही अच्छा तरीका हो सकता है। लेकिन सारी इमेज एक समान नही होती। कुछ इमेज आपकी वैबसाइट को नीचे भी गिरा सकते है। 

Image optimization के बहुत ही फायदे है जैसे:-

  • गूगल इमेज सर्च पर रैंक होने का अवसर
  • पाठक का अच्छा अनुभव
  • जल्दी पेज लोड होगा। 
पाठक को रुचिकर कंटैंट देना

SEO के सारे एलिमेंट्स सही करना यह आधी लड़ाई है। बाकी की लड़ाई है पाठक को वैबसाइट पर रोके रखना। वह सिर्फ पेज खोल कर बंद न करे। वह रूचिपूर्वक पढे, और दोबारा वैबसाइट पर आ कर जानकारी ले। पाठक को पढ़ने मे रुचि देना एक कठिन काम है लेकिन यह काम भी किया जा सकता है। और करना जरूरी भी है। अपने पाठक को रुचि देने के लिए आपको कुछ एलेमेन्त्स्स पर जरूर काम करना चाहिए जैसे वैबसाइट की स्पीड, पाठक का अनूभव और कंटैंट मे पाठक की रुचि के मुताबिक बदलाव करके आप यह सुनिश्चित कर सकते है। आपको अपने पाठको को अपने बात रखने का स्थान देना चाहिए जैसे कमेंट बॉक्स। आप चाहे तो उनसे फीडबक लेकर अपने पाठको के मन के अनुसार लिख सकते है जैसे वो किस जानकारी के लिए आपकी वैबसाइट पर आए है। 

सीखते रहिए :-

आपको ON-Page SEO Techniques | ON-Page SEO detailed analyses in Hindi यह जानकारी कैसी लागि कमेंट बॉक्स मे लिखकर अवश्य बताए। यदि कोई जानकारी रह गयी हो या आपका कोई प्रश्न हो तो हमे कमेंट बॉक्स मे सूचित करे। हम आपको जल्द से जल्द जवाब देने की कोशिश करेंगे। अगर आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद आती है और आप ऐसे ही अपना ज्ञान बड़ाना चाहते हो तो आप हमारे न्यूज़लेटर पर सब्सक्राइब करे। धन्यवाद !